आखिर क्यों बर्बाद हो गई टाटा नैनो ?…

आखिर क्यों बर्बाद हो गई टाटा नैनो ?…

कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन से देश की इकोनॉमी को काफी नुकसान पहुंचा है। कई बिजनेस पूरी तरह से चौपट हो गए। वहीं, टाटा कंपनी की ड्रीम कार नैनो भी अब बंद हो गई है। टाटा कंपनी ने इसका प्रोडक्शन बंद कर दिया था। 2009 में टाटा कंपनी ने इस कार को भारत की सड़कों पर उतार दिया था लेकिन ये लोगों की उम्मीदों पर खड़ी नहीं उतर पाई। बड़ा सवाल ये है कि मध्यमवर्गीय परिवार को कार का सपना दिखाने वाली टाटा कंपनी से कहां गलती हुई कि महज 10 सालों में ही टाटा नैनो का सफर पूरा हो गया?

‘लखटकिया कार’ के रूप में जानी जाने वाली ये कार टू व्हीलर गाड़ी चलाते हुए कार का सपना देखने वाले लोगों को ध्यान में रखकर बनाई गई थी। इसकी शुरुआती कीमत महज 1 लाख रुपये थी। शुरुआत में इस कार को लोगों का अच्छा रिस्पांस मिला था पर कुछ कमियों के चलते ये कार लोगों की पसंद नहीं बन पाई।

बाद में नैनो की कीमत बढ़ा दी गई। तब भी इसने छोटी कारों की रेंज में अपनी अलग पहचान बनाई थी लेकिन सड़कों पर उतरी नैनो में कई जगह आग लगने की घटनाओं के बाद इसकी सेल्स में तेजी से गिरावट आई।

शुरुआत से ही नैनो कार के सफर में दिक्कतें आती रही। पहले पश्चिम बंगाल के सिंगूर में नैनो का प्रोडेक्शन होना था, लेकिन वहां जमीन को लेकर लोगों का भारी विरोध कंपनी को झेलना पड़ा। इसके बाद टाटा ने नैनो का प्रॉडक्शन गुजरात के साणंद में शिफ्ट किया।

नैनो कार मार्केट में आने के कुछ समय बाद ही टाटा मोटर्स के लिए घाटे का सौदा बन गई। टाटा संस के एक्स चेयरमैन साइरस मिस्त्री ने दावा किया था कि इसके प्रोडेक्शन से कंपनी को 1000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

खुद रतन टाटा ने भी माना था कि नैनो की ब्रांडिंग और उसके प्रमोशन में कई गलतियां हुई है। ‘सबसे सस्ती कार’ के रूप में सही तरह से इसका प्रमोशन नहीं किया जा सका।

नैनो कार की सेल लगातार गिरती गई। 2017 में 200 नैनो कारें भी नहीं बिकी थी। जून 2018 में कंपनी ने महज 1 कार का उत्पादन किया। 2019 के बाद इस कार की प्रोडेक्शन पूरी तरह बंद हो गई।

दरअसल, 1 अप्रैल 2020 से BS-VI एमिशन नॉर्म्स अनिवार्य रूप से लागू कर दिया गया है। ऐसे में नैनो को भी BS-VI एमिशन नॉर्म्स में अपडेट करना था पर नैनो की कम सेल्स को देखते हुए कंपनी ने ये कार बंद करने का फैसला लिया।

देखे विडियो :

नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल)

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. timepass अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *