भारत को लूटने वाले विदेशी शासक, नंबर 5 था भारतीय इतिहास का सबसे क्रूर शासक

भारत को लूटने वाले विदेशी शासक, नंबर 5 था भारतीय इतिहास का सबसे क्रूर शासक

भारत का इतिहास कई हजार वर्ष पुराना माना जाता है। 65,000 साल पहले, पहले आधुनिक मनुष्य, या होमो सेपियन्स, अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में पहुंचे थे, जहां वे पहले विकसित हुए थे। सबसे पुराना ज्ञात आधुनिक मानव आज से लगभग 30,000 साल पहले दक्षिण एशिया में रहता है।

एक समय भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, लेकिन हमारे देश पर कई विदेशी शासकों ने आक्रमण किया और भारत को लूटते रहे, तो आज हम आपको ऐसे कुछ बर्बर लुटेरे शासकों के बारे में बताने वाले हैं

1- मुहम्मद बिन कासिम

भारत पर पहला अरब आक्रमण 636 ई में खलीफा उमर के द्वारा किया गया था जिसमे अरब से लुट करने वालो को बार बार पराजय का सामना करना पड़ा। एक और अरब आक्रमणकारी मुहम्मद बिन कासिम ने कई युद्दो में असफल होने के बाद 711 ई में राजा दाहिर को हरा कर अरबो के लिए भारत का मार्ग खोल दिया। राजा दाहिर की हत्या के बाद अरब लुटेरो ने सिंध और मुल्तान को जी भर कर लुटा

2- महमूद गजनवी

भारत पर सबसे अधिक बर्बर आक्रमण महमूद गजनवी ने किये। गजनी के रहने वाले महमूद गजनवी से सबसे पहले पेशावर के हिन्दुशाही राजा को पराजित करके पेशावर पर अधिकार किया। इसके बाद गजनवी ने मुल्तान पर अधिकार किया। अपने 25 साल के काल में गजनवी ने भारत को लुटने और इस्लाम को फैलाने के लिए 17 आक्रमण किये।

3- चंगेज खान

मंगोलियाई शासक चंगेज खान ने साल 1162 में भारत पर आक्रमण किया, उसने काबुल, कंधार सहित कश्मीर पर हमला किया और तमाम खजाने लूटे।

4- बाबर

मुगल वंश की स्थापना करने वाला बाबर एक क्रूर लुटेरा भी भी, उसने अधिकांश उत्तर भारत में लूटपाट की, बाबर ने अपने शासनकाल म बहुत की क्रूरतापूर्वक हिन्दुओं का नरसंहार किया था।

5- औरंगजेब

भारत के मुगल शासकों में औरंगजेब को सबसे क्रूर माना जाता है, उसने अपने ही पिता और भाइयों की हत्या करने के अलावा गुरु तेग बहादुर को मरवाया और गुरु गोविन्द सिंह के बच्चों को दीवार में जिंदा चुनवा दिया था, औरंगजेब ने खूब लूटपाट भी की।

नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल)

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. timepass अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.