क्या आप जानते हो दुनिया को डराने वाला हिटलर इन मामूली चीजों से डरता था..

क्या आप जानते हो दुनिया को डराने वाला हिटलर इन मामूली चीजों से डरता था..

एडॉल्फ हिटलर का जन्म आस्ट्रिया के वॉन नामक स्थान पर आज ही के दिन यानी 20 अप्रैल को 1889 में हुआ और प्रारंभिक शिक्षा लिंज नामक स्थान पर हुई। हिटलर जब 4 साल का था तो एक चर्च के पादरी ने उसे डूबने से बचाया था। हिटलर नाजी पार्टी से जुड़ा था। 1933 में वह जर्मनी का चांसलर बना और इसके साथ ही उसकी ताकत बढ़ती गई। 1934 में वह जर्मनी का अधिनायक बना। 1933 से 1945 तक वह जर्मनी का तानाशाह रहा। पहले विश्वयुद्ध में जर्मनी के अपमान का वह बदला लेना चाहता था। उसने 1 सितंबर, 1939 को पोलैंड पर हमला करके यूरोप में दूसरा विश्वयुद्ध शुरू कर दिया। खैर यही विश्वयुद्ध उसके अंत की भी वजह बना। आइए इस मौके पर हिटलर से जुड़ीं कुछ रोचक बातें बताते हैं…

​मूंछों का राज

पहले विश्व युद्ध का समय था। हिटलर एक खंदक में फंसा हुआ था। उस समय ही गैस अटैक हो गया। उस वक्त उस की मूंछें बड़ी थीं। गैस से बचने के लिए उसने जो गैस मास्क लगाई, वह मूंछों में फंस गई और मास्क को उतारने के लिए काफी जद्दो-जहद करनी पड़ी। इस घटना के बाद उसने अपनी मूंछें दोनों तरफ से कटवा लीं।

​टैक्स चोर था हिटलर

हिटलर एक बड़ा टैक्स चोर था। एक बार उसकी खुद की सरकार ने 1934 में उस पर जुर्माना लगाया था। उसके बाद उसने टैक्स डिपार्टमेंट से खुद को टैक्स से मुक्त घोषित करवा लिया। हिटलर के बारे में एक और रोचक बात यह है कि हिटलर कभी चुनाव में खुद नहीं जीता था। वह राष्ट्रपति का चुनाव हार गया था लेकिन नाजी पार्टी ने गठबंधन बनाया जिससे उसको पर्याप्त सीटें मिल गईं और हिटलर के लिए चांसलर का पद मांगा।

मामूली चीजों से डरता था हिटलर

हिटलर ने भले ही आतंक का साम्राज्य कायम किया हो लेकिन खुद भी डरता था। मामूली चीजों से। उनमें से एक है बिल्ली। वैसे सिकंदर, नेपोलियन, मुसोलिनी और हिटलर इन सभी को बिल्ली से डर लगता था। वह दूसरे के हाथ में ब्लेड देखकर डर लगता था। वह बाल कटाने और दाढ़ी बनवाने से भी डरता था और खूब चिल्लाता था। उसे ऐसा लगता था कि लोग उसकी जान लेना चाहते हैं। इस डर की वजह से वह अपनी दाढ़ी खुद बनाता था। हिटलर नहीं चाहता था कि कोई उसके गले के पास ब्लेड लेकर आए।

​अंधेरे से भी डरता था हिटलर

हिटलर को अंधेरे से डर लगता था जिसके चलते वह देर रात में सोने के बजाय सुबह 4 से 5 बजे सोता था और 11 बजे सोकर उठता था। बेड पर जाने से पहले अपनी मेड से बिस्तर चेक करने को कहता था। बताया जाता है कि उसे अनजान चीजों का डर था।

हिटलर का ड्रीम होटल

बाल्टिक सागर में रुगेन द्वीप पर दुनिया का सबसे बड़ा होटल है। इस होटल का नाम होटल प्रोरा है। इस होटल में 10,000 बेडरूम हैं और हर किसी का रुख समुद्र की ओर है। करीब 80 साल पहले इसको बनाया गया था और तब से अब तक यह खाली पड़ा है। यह होटल हिटलर का ड्रीम प्रॉजेक्ट था। हिटलर प्रोरा को दुनिया का सबसे बड़ा होटल बनाना चाहता था। वह चाहता था ऐसा विशालकाय रिजॉर्ट बनाया जाए जो दुनिया का अब तक का सबसे शक्तिशाली और सबसे बड़ा रिजॉर्ट हो। उसकी योजना 20,000 बिस्तरों वाले होटल बनाने की थी। हर कमरे का रुख समुद्र की ओर रखने का प्लान था। हर रूम का आकार 5×2.5 मीटर होना था जिसमें दो बिस्तर हो, एक वार्डरोब और एक सिंक हो। कंप्लेक्स के बीच में एक विशालकाय भवन बनाने की भी योजना थी जिसे जरूरत पड़ने पर युद्ध के समय में सैन्य अस्पताल में बदला जा सके।

देखे विडियो:

नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल)

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. timepass अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

 

time pass

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *