मशीन जैसे तेज रफ्तार में बुजुर्ग ने काटा 15 सेकंड में 3 टिकट स्पीड देख लो हुए हैरान

रेलवे स्टेशन पर हम लोग अक्सर टिकट कटवाने जाते हैं। जहां लंबी लाइन लगी होती है और इस लंबी लाइन में खड़े होकर खिड़की के पास इंतजार करना किसी को भी पसंद नहीं है। लेकिन टिकट काटने वाले कर्मचारी एक हो और भीड़ ज्यादा हो तो कर्मचारी भी अपनी क्षमता के अनुसार ही काम कर सकते हैं। उससे ज्यादा नहीं इसीलिए लोग लाइन में खड़े होकर टिकट कटवाना बिल्कुल भी नहीं चाहते हैं। आजकल इंटरनेट का दौर चल चुका है ऐसे में यह काम अब मशीनों ने भी ले लिया है। लेकिन जानकारी के अभाव की वजह से मशीनों से टिकट लोग ले नहीं पाते हैं। ऐसे में मदद के लिए कोई ना कोई वहां मौजूद होता है ऐसा ही एक बुजुर्ग शख्स का वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें उनकी रफ्तार देखकर ही लोग हैरान है।

मशीन की रफ्तार में बुजुर्गों ने काटा टिकट

वायरल हो रहा है वीडियो में आप देख सकते हैं एक बुजुर्ग रेलवे स्टेशन पर टिकट काट रहे हैं और उनके हाथ की स्पीड देख कर ही आंखें चौक जाएंगी। आप देखेंगे वीडियो में कि बुजुर्ग शख्स मात्र 15 सेकंड में ही तीन टिकट काट देते हैं और उनके पास लगातार टिकट कटवाने के लिए आ रहे हैं। यह वीडियो कहां का है इस पर लोगों ने अपने-अपने अलग-अलग तथ्य लगाएं हैं। कोई कह रहा है मुंबई का है तो कोई चेन्नई का इसे बता रहा है फिलहाल अभी तक इसकी कोई पुख्ता पुष्टि नहीं हुई है कि आखिर यह वीडियो कहां का है।

सोशल मीडिया पर जमकर हो रहा वायरल

सोशल मीडिया पर यह वीडियो जमकर वायरल हो रहा। जिसमें बुजुर्ग शख्स को टिकट काटते हुए लोग देख रहे हैं। उनके एक्सपीरियंस की तारीफ करने के साथ ही इस वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी है। यह वीडियो देख एक यूजर ने शेयर करते हुए लिखा “भारतीय रेलवे में कहीं यह आदमी इतनी तेजी से 3 यात्रियों को 15सेकंड में टिकट दे रहा है।” इस वीडियो को 8 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है और 31 हजार से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है। एक यूजर ने लिखा वीडियो देखने के बाद इसे देखकर यह समझा जा सकता है कि भले ही मशीनें मार्केट में आ जाए बिना इंसानों के वह अधूरा है।

नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल)

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. timepass अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

time pass

Leave a Reply

Your email address will not be published.