ट्रेन के पीछे क्यों होता है X का निशान? जानें रेलवे में क्या है इसका मतलब

ट्रेन के पीछे क्यों होता है X का निशान? जानें रेलवे में क्या है इसका मतलब

भारतीय रेलवे (Indian Railways) की ट्रेनों में प्रतिदिन हजारों की संख्या में यात्री सफर करते हैं लेकिन इंडियन रेलवे से जुड़ी कई रोचक बातें सभी लोग नहीं जानते. आपने भी बेशक ट्रेनों में सफर किया हो या न किया हो लेकिन ट्रेन को कहीं गुजरते जरूर देखा होगा.

क्या आपने कभी इस बात पर ध्यान दिया है कि ट्रेन के आखिरी डिब्बे यानी लास्ट कोच (last coach) पर एक क्रॉस ‘X’ का निशान होता है. क्या आपने कभी सोचा है कि ये ‘X’ का निशान क्यों बना होता है और इसका क्या मतलब है?

दरअसल, भारतीय रेलवे द्वारा ट्रेन के डिब्बों पर बनाए गए ज्यादातर निशान और संकेत रेल कर्मचारियों के लिए होते हैं. ये क्रॉस यानी X हमेशा ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर ही लिखा जाता है. जिसका सीधा ये होता है कि पूरी ट्रेन जा चुकी है.

सभी ट्रेनों के लास्ट डिब्बे पर ही X का निशान इसलिए बनाया जाता है जिससे स्टेशन पर तैनात रेलवे कर्मयारियों को यह पता चल सके कि पूरी ट्रेन गुजर चुकी है. इसी से ये भी पता चलता है कि ट्रेन किसी भी हादसे का शिकार नहीं हुई और एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन पर सही सलामत पहुंची है. बता दें कि हर स्टेशन पर रेलवे कर्मचारी इस क्रॉस के निशान से ट्रेन की चैकिंग करते हैं और हरी झंडी दिखाते हैं.

इसके अलावा ट्रेन के लास्ट कोच के पीछे एक बिजली का लैंप भी लगा होता है, जो लाइट की तरह चमकता भी है. वहीं, ‘X’ के साथ एक छोटे से बोर्ड पर LV भी लिखा होता है. LV की फुल फॉर्म ‘last vehicle’ है. जिसका मतलब है आखिरी डिब्बा.

अगर किसी ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर क्रॉस का निशान और LV दोनों में से कोई भी संकेत नहीं होता तो इससे साफ पता चलता है कि ये एक आपातकालीन स्थिति है. जिसे देखते ही रेलवे कर्मचारी ट्रेन के डिब्बे छूटने एंव दुर्घटना से संबंधित जानकारी को लेकर अलर्ट होते हैं.

नोट – प्रत्येक फोटो प्रतीकात्मक है (फोटो स्रोत: गूगल)

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. timepass अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *